Saturday, October 31, 2020
Shehtoot khane ke fayde

फलों को पोषक तत्वों का भंडार माना जाता है। इस कारण लोगों में हमेशा से इनके प्रति एक विशेष आकर्षण रहता है। कुछ को मीठे फल ज्यादा पसंद आते हैं, तो कुछ को इनकी खटास में मजा आता है। वहीं, खट्टे-मीठे स्वाद वाले फलों को चाहने वालों की भी कोई कमी नहीं है। स्टाइलक्रेज के इस लेख हम आपको ऐसे ही एक फल के बारे में बताने जा रहे हैं, जो अपने रसीले और खट्टे-मीठे स्वाद के कारण लोगों में काफी मशहूर है। हम बात कर रहे हैं, शहतूत की।

गर्मी के मौसम में बाजार में शहतूत की आवक खूब होती है, और इसके स्वाद के दीवानों की भी कमी नहीं है। खट्टा-मीठा, रसीला शहतूत स्वाद में तो मजेदार है ही, सेहत के लिए भी बेहद फायदेमंद है।
इसके मीठे और तीखे स्वाद के कारण शहतूत की ज्यादातर किस्मों का इस्तेमाल शर्बत, जैम, जेली, पाइज, शराब, चाय आदि के लिए किया जाता है। दुनिया के कुछ क्षेत्रों में शहतूत की किस्मों के स्वाद भिन्न होते हैं, लेकिन अमेरिकी शहतूत और काले शहतूत का स्वाद सबसे अच्छा माना जाता है। शहतूत का पेड़ लोगों को शहतूत प्रदान करने के अलावा कई अन्य लाभ भी देता है। शहतूत के पेड़ की पत्तियां रेशम के कीड़े के लिए एकमात्र खाद्य स्रोत हैं।
सामान्यतौर पर शहतूत का उपयोग जैम, जेली, सॉस, वाइन और मीठे खाद्य पदार्थ बनाने में किया जाता है। लेकिन कई पोषक तत्वों से युक्त होने के कारण शहतूत का सेवन शरीर के विकारों को दूर करने के लिए भी किया जाता है।
शहतूत पोषक तत्वों से भरपूर है जो हमारे शरीर के लिए महत्वपूर्ण होते हैं जिनमें लोहा, राइबोफ्लैविविन, विटामिन सी, विटामिन K, पोटेशियम, फास्फोरस और कैल्शियम शामिल हैं। साथ ही साथ इसमें आहार फाइबर और कार्बनिक यौगिक जैसे रिवेस्ट्रैटोल, एंथोकायनिन, ल्यूटिन और कई अन्य पॉलीफेनॉयलिक यौगिक पाए जाते हैं। इसके अलावा इसमें एंटीऑक्‍सीडेंट होते हैं जो कि फ्री रैडिकल्‍स से लड़ते हैं।

शहतूत खाने के फायदे

1.मस्तिष्क को स्वस्थ रखने में

रिसर्च में पाया गया है कि शहतूत बढ़ती उम्र के साथ मस्तिष्क कमजोर होने की समस्या को दूर करने में बहुत उपयोगी होता है। शहतूत में कैल्शियम पाया जाता है जो मस्तिष्क को स्वस्थ रखने के लिए आवश्यक होता है। इसलिए शहतूत खाने से दिमाग स्वस्थ रहता है और यह अल्जाइमर की बीमारी को दूर करने में बहुत फायदेमंद होता है।

2.रक्त के सुधार में
रक्त संचार में सुधार के लिए भी शहतूत के लाभ हासिल किए जा सकते हैं। दरअसल, शहतूत में सायनायडिंग 3-ग्लूकोसाइड नाम का फाइटोन्यूट्रिएंट पाया जाता है। यह खून को साफ करता है। साथ ही रक्त संचार में भी सुधार करता है (2)। इस कारण हम यह कह सकते हैं कि शहतूत के सेवन से न केवल खून में मौजूद अशुद्धियों को दूर किया जा सकता है, बल्कि रक्त परिसंचरण (ब्लड सर्कुलेशन) की प्रक्रिया को भी नियंत्रित किया जा सकता है

3.पाचन क्रिया तेज करने में
अधिक फाइबर युक्त खाद्य पदार्थ खाने से पाचन ठीक रहता है। शहतूत में पर्याप्त मात्रा में फाइबर होता है जिससे पेट का पाचन सुचारू रूप से कार्य करता है और शरीर स्वस्थ रहता है। पाचन ठीक रखने के साथ ही शहतूत खाने से कब्ज की भी समस्या नहीं होती है।

4.ब्लड शुगर के उपचार में
शहतूत में हाइपरग्लाइसेमिक प्रभाव पाया जाता है, जो शरीर में इंसुलिन की सक्रियता को बढ़ाता है और खून में शुगर की अधिक मात्रा को कम करने में सहायक है। इस कारण डायबिटीज के रोगियों के लिए यह एक बेहतर विकल्प साबित हो सकता है

5.एनिमिया और रक्त के उपचार में
आयरन की कमी के कारण शरीर में खून की कमी हो जाती है। लेकिन शहतूत का सेवन करने से इस समस्या से बचा जा सकता है क्योंकि शहतूत में पर्याप्त मात्रा में आयरन पाया जाता है जो एनीमिया के मरीज के लिए बहुत फायदेमंद होता है। इसका सेवन करने से शरीर में हीमोग्लोबिन की संख्या बढ़ जाती है।

6.हड्डियों उपचार में
हड्डियों से संबंधित एक शोध से इस बात की पुष्टि होती है कि सफेद शहतूत में कैल्शियम प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। वहीं, कैल्शियम हड्डियों के लिए आवश्यक माना गया है, जो उन्हें मजबूती देने के साथ-साथ बोन टिश्यू के निर्माण में भी मदद करता है

7.किडनी उपचार में
खतरनाक बीमारियों से किडनी को सुरक्षा प्रदान करने में शहतूत बहुत फायदेमंद होता है। शहतूत में पाये जाने वाले तत्व किडनी में प्रवेश कर किडनी के स्टोन के लक्षणों को दूर करते हैं और बीमारियों से बचाते हैं। इसके अलावा शरीर के विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालकर लिवर को भी मजबूत बनाने का कार्य करता है।

शहतूत खाने के परहेज

  • कुछ लोगों में यह त्वचा संबंधी एलर्जी पैदा कर सकता है।
  • वहीं, कच्चे सफेद शहतूत खाने से पेट दर्द और मतिभ्रम की शिकायत हो सकती है।
  • गर्भवती और दूध पिलाने वाली महिलाएं इसके सेवन से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर लें।
  • शहतूत के पेड़ के पराग एलर्जिक रिएक्शन पैदा कर सकते हैं इसलिए अगर आपकी त्वचा संवेदनशील है तो शहतूत से परहेज करें अन्यथा आपकी त्वचा पर रैशेज आ सकते हैं या सूजन औऱ खुजली हो सकती है।
  • हालांकि शहतूत त्वचा के लिए फायदेमंद होता है, लेकिन एक रिसर्च में पाया गया है कि शहतूत में एर्बुटिन (arbutin) की मात्रा पायी जाती है, इस कारण शहतूत से बने उत्पादों का इस्तेमाल करने से स्किन कैंसर हो सकता है।
  • अगर पहले से ही आपके ब्लड शुगर का स्तर कम है तो शहतूत का सेवन न करें क्योंकि यह ब्लड शुगर लेवल का काफी नीचे कर सकता है जिसकी वजह से आपको हाइपोग्लाइसेमिया हो सकता है।
  • प्रेगनेंट और बच्चे को स्तनपान करवाने वाली महिलाओं को डॉक्टर से सलाह लेकर ही शहतूत का सेवन करना चाहिए।
Tags: , , , , ,
Avatar

0 Comments

Leave a Comment

FOLLOW US

GOOGLE PLUS

PINTEREST

INSTAGRAM

YOUTUBE

Advertisement

RECENTPOPULARTAG