Saturday, October 31, 2020
रस्सी कूदने के फायदे  Rassi Kudne ke fayde

         रस्सी कूदने के फायदे | Rassi Kudne ke fayde |

रस्सी कूदना वास्तव में आपके पैरो पर पूरी तरह से केंद्रित है | यह आपके संतुलन को बेहतर बनाता है यह अभ्यास करने के लिए आपको बार – बार पैर को ऊपर उठाना पड़ता है | जो आपके पैरो को हल्का बनाता है जो लोग रनिंग करने के लिए तयारी करते है उनके लिए रस्सी कूदना बहुत फायदे मंद होता है |

रस्सी कूदना आपकी साँस लेने की शमता को भी बेहतर करती है | स्वस्थ ह्रदय और सहनशक्ति में सुधार करती है इसके अलावा रस्सी कूदने यह भी पता चलता है कि आप को कितनी ज्यादा गति मे सांस चल रही है और इसमें अगर आप रस्सी कूदते हे |  तो आप की साँस भी कंट्रोल होगी और आप अच्छे से रनिंग कर सकते है | अगर आप रस्सी कूद ते है तो आप पांच किलो मीटर रनिंग आप आराम से 24 मिनिट के अंदर ला सकते है |

 

हम जानते है की रस्सी कूदने से हमारे शरीर को अनेक फायदे होते है | हम सभी जानते है की किसी भी व्यायाम को करने का सही समय होता है वैसे तो रस्सी कूदना एक ऐसा व्यायाम है | आप कही भी किसी भी जगह अपने घर में या अपने छत पर या कही पर भी व्यायाम कर सकते है इसका अधिक लाभ लेने के लिए आप को रस्सी को कूदने का समय सुबह सूर्योदय के वक्त होता है | इसके अलावा आप शाम के समय भी रस्सी कूदने का अभ्यास कर सकते है अगर आप पहली बार रस्सी कूदने का अभ्यास करते है तो आप पहले दिन कम रस्सी कूदे जिससे आप के पेरो का दर्द नहीं होगा | और आप एक सप्ताह में कम से कम 5 दिन रस्सी कूद का प्रयास करे जिससे आप का स्टेमिना भी जल्दी बढ़ेगा और आप की रनिंग में भी फायदा होगा |

 

                            रस्सी कूदने से ह्रदय स्वस्थ रहता है |

रस्सी कूदने से हमारे ह्रदय में बहुत लाभ कारी है रस्सी कूदते समय हमारी सांस बहुत तेजी से चलने लगती है जिससे हमारे फेफड़ो में सांस जाती है और उतनी गति से बाहर आती है इससे हमारे दिल और फेफड़ो की बीमारी से बहुत लाभ मिलता है | इसीलिए हमे सप्ताह में कम कम चार से पांच बार रस्सी कूदना चाहिए |

                                                रस्सी कूदने से लाभ |

               Rope Jumping Benefits In Hindi |

रस्सी कूदना अन्य कई खेलो में सक्रिय लोगो के लिए बहुत फायदेमंद है | रस्सी कूदने से पैर और टखने समस्या ददूर हो जाती है जिससे अदिकांश खिलाडी फुटबाल , टेनिस , और ऐसे बहुत से एथलीट खेलो में अक्सर दौड़ने या मुड़ने से हो जाती है | या आपके टखने के जोड़ के आसपास की मांसपेशियों में ताकत बढ़ती है जिससे आपके पैरो में उन क्षेत्रों में चोट लगने की संभावना कम हो जाती है |

 

 

Tags: , , , , , ,
Avatar

1 Comment

Avatar
Dileep Singh Parihar July 24, 2019 at 10:35 pm

जय हिंद

Leave a Comment

FOLLOW US

GOOGLE PLUS

PINTEREST

INSTAGRAM

YOUTUBE

Advertisement

RECENTPOPULARTAG