Tuesday, August 11, 2020
Ananas khane ke fayde

अनानास ऐसा फल है, जो खाने में जितना स्वादिष्ट होता है, उसके फायदे भी उतने ही होते हैं। आप अनानास का जूस पिएं या उसे खाएं, यह हर तरह से शरीर को फायदा पहुंचाता है। इस फल में पौष्टिक तत्वों की भरमार है। खाने में रसीला और सेहत से भरपूर अनानास अपने आप में गुणों का खजाना है।

यह फल एंटीऑक्सिडेंट, फाइबर, विटामिन ए और विटामिन सी, थायमिन, कैल्शियम, पोटेशियम, फास्फोरस, मैंगनीज के साथ-साथ फोलेट से भी भरपूर है। इसके अतिरिक्त, यह सोडियम और वसा में भी कम है। संक्षेप में अनानास पौष्टिक गुणों का भण्डार है और कैलोरीज कम होने की वजह से यह डाइटिंग करने वाले व्यक्तियों का घनिष्ट मित्र भी।

अनानास में काफी नुट्रीशियन होते हैं। एक अच्छी सेहत की दृष्टि से अनन्नास महत्त्वपूर्ण फलों में से एक है। स्वाद में यह खट्टा-मीठा होने के साथ स्वास्थ्य के लिए भी फायदेमंद होता है। इसका उपयोग खाने, सलाद और मिठाइयों में किया जाता है। इसमें कैल्शियम, फाइबर और विटामिन सी पाया जाता है। इसमें बहुत कम मात्रा में वसा होती है। इस फल का खाने योग्य भाग लगभग 60 प्रतिशत रहता है। इसमें ब्रोमोलिन नामक रसायन होता है, जो काफी हद तक पपैन के समान होता है। यह पाचक और पोषक तत्वों के घुलने में मदद करता है यह मांस, अंडे की सफेदी, दूध के केसिन, मछली और दालों को पचाने में मदद करता है। इसलिए इसे प्रोटीनयुक्त भोजन खाने के बाद में लेना बहुत फायदेमंद है।

आइए जानते है किस प्रकार अनानास को अपने आहार में शामिल करने से आप किन-किन बीमारियों से खुद को बचा सकते है। आज के इस लेख में हम आपको अनानास खाने के फायदे के बारे में बताने वाले है।

अनानास खाने के फायदे और लाभ

अनानास में पाए जाने वाले खनिज पदार्थ : –

कैल्शियम 13 मिलीग्राम
कॉपर 0.110 मिलीग्राम
आयरन 0.2 9 मिलीग्राम
मैग्नीशियम 12 मिलीग्राम
मैग्नीज 0.927 मिलीग्राम
फास्फोरस 8 मिलीग्राम
सेलेनियम 0.1 माइक्रोग्राम
जिंक 0.12 मिलीग्राम

हड्डियां मजबूत करने में : –

अगर आप चाहते हैं कि आपकी हड्डियां लंबे समय तक मजबूत रहें, तो अपने खानपान में अनानास जरूर शामिल करें। इसमें मैंगनीज होता है, जो हड्डियों को मजबूत करने में मदद करता है।

पाचन शक्ति को उत्तेजित : –

अनानस पाचन प्रक्रिया का समर्थन करने के लिए उत्तम माना जाता है। यह पाचन शक्ति को उत्तेजित तो करता ही है परंतु साथ ही में यह पेट एवं आंत की अंदुरनी सतह को भी शांत करने में भी उपयोगी है। यह घुलनशील एवं अघुलनशील दोनों ही तरह के फाइबर से भरपूर है, जो पाचन प्रक्रिया एवं मल-त्याग क्रिया में अत्यंत महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वाह करते हैं। इसके अलावा, इसमें ब्रोमेलैन नामक एक तत्व पाया जाता है जो प्रोटीन के पाचन में सहायक है।
अनानास आंत्र पथ के संक्रमण का इलाज करने में भी इस्तेमाल किया जाता है। इसके अतिरिक्त, अनानास एक प्राकृतिक रेचक के रूप में कार्य करता है इसलिए यह कब्ज की समस्या का एक सफल समाधान है

त्वचा को बनाए कोमल : –

हर महिला चाहती है कि उनकी त्वचा कोमल और मुलायम दिखें। ऐसे में आपको सिर्फ इस फल को सुविधा के अनुसार इस्तेमाल करना होगा। यह फल आपके शरीर में कोलाजन संश्लेषण को बढ़ावा देता है। कोलाजन संश्लेषण जितना अधिक होता है, आपकी त्वचा में निखार उतना अधिक आता है। इतना ही नहीं अनानास में मौजूद अमीनो एसिड और विटामिन सी क्षतिग्रस्त कोशिकाओं और ऊतकों को ठीक करने में मदद करता है। अगर आप चेहरे पर अनानास का असर देखना चाहते है तो आप अपने चेहरे पर ताजा तैयार किए अनानास के रस को लगायें और 10 मिनट के बाद पानी से इसे धो लें कुछ देर बाद आपको इसका असर दिखने लगेगा।

पथरी में उपयोगी : –

जिस व्यक्ति को पथरी की समस्या हो उनके लिए अनानास बहुत ही लाभदायक होता है। अगर आपको पथरी है तो आप रोजाना 3 से 4 पीस अनानास के खाएं या एक गिलास बिना शक्कर के लिए अनानास का जूस पी जाएँ। इससे पथरी की समस्या से जल्द ही निजात मिलेगी

फ्री रेडिकल्स से बचाए : –

अनानास एंटीऑक्सीडेंट का एक समृद्ध स्रोत है, जो शरीर में मुक्त कणों से लड़ने में मदद करता है। इसके एंटीऑक्सीडेंट गुण हमारे शरीर को एथेरोस्क्लेरोसिस, दिल की बीमारियों, गठिया व विभिन्न तरह के कैंसर आदि से बचाते हैं। इसलिए, अगर आप इन स्थितियों से बचना चाहते हैं, तो अनानास खाने से न हिचकें।

वजन घटाने में सहायक : –

वजन घटाने वाले आहार में अनानस सर्वोत्तम फलों में से एक है। यह आपके पेट को भरा रखता है जिससे आप अत्यधिक भोजन ग्रहण करने से बच जाते हैं और आपके शरीर में ऊर्जा की कमी भी नहीं होती। और ऊपर से इसमें कैलोरीज भी बहुत कम होती है। इसमें पानी एवं फाइबर की मात्रा भी उच्च है जो आपको लंबे समय तक भरा-भरा रखती है।
आप वजन कम करने के लिए अनानास की मदद से एक वनस्पतीय मादक अर्क बना सकते हैं। इसे बनाने के लिए आप पहले अनानास को छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लें और मिक्सर की सहायता से अच्छे से पीस लें। इसके पश्चात इस मिश्रण को एक मेसन जार में डालें और इसमें लगभग आधा लीटर वोडका मिलाएं। एक सप्ताह के लिए इसे फ्रिज में रख दें। इस मिश्रण का एक चमच्च रोजाना खाना खाने से 15-20 मिनट पहले पियें।

नाखून को बनाए नरम और मजबूत : –

क्या कभी आपने सोचा है कि आपका नाखून सूखा या खराब क्यों दिखता है। नाखून के सूखापन या बेजान दिखने की मुख्य वजह विटामिन ए और बी की कमी है। लेकिन शरीर में विटामिन्स को दूर करने के लिए इसकी दवा लेने की जरूरत नहीं है। सिर्फ अनानास के उपयोग से आप अपने नाखून को नरम बनाया जा सकता है। अनानस के रस को आप नाखून को नरम बनाने के लिए इस्तेमाल कर सकते है।

आँखों की रोशनी बढ़ाये : –

आँखों की रोशनी और आँखों को स्वस्थ बनाए रखने के लिए नियमित रूप से अनानास के रस का सेवन करना चाहिए। बढ़ती उम्र में आँखों से कम दिखना शुरू हो जाता है जिसके लिए आप अगर अभी से अनानास का रस पीना शुरू कर देते हैं तो आपको आगे आँखों से समन्धित कोई भी समाया नहीं आएगी।

बालों को झड़ने से रोकने में : –

सर से बालों का टूटना या झड़ना किसी को अच्छा नहीं लगता होगा लेकिन कुछ आहार के सेवन से आप अपने बालों को झड़ने से रोक सकते है। बालों को झड़ने से रोकने के लिए आपको सिर्फ अपने आहार में अनानास को शामिल करना होगा। आपको बताए दें कि अनानास में विटामिन सी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। । विटामिन सी एक महत्वपूर्ण तत्व है जो बालों के झड़ने को रोकने में सहायक है। यह एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट है जो फ्री रेडिकल को डैमेज होने से बचाता है। अनानास में पानी में घुलनशील विटामिन्स होते है।

मौखिक स्वास्थ्य में सुधार : –

अनानास में उच्च विटामिन सी सामग्री दांतों पर पट्टिका (plaques) के गठन को रोकने में मदद करती है और साथ ही में मसूड़ों से सम्बंधित विकारों के खतरे को कम करती है। इसके अलावा, शोध से पता चलता है कि अनानास में ब्रोमेलन, एक प्राकृतिक दाग हटाने वाला घटक निहित है इसलिए यह आपके दांतों को मोती के समान सफ़ेद रंग देने में और चमकाने में मदद करता है।

सूजन को कम : –

अनानास में ब्रोमेलैन नामक एक तत्व पाया जाता है जो एक प्राकृतिक एंटी-इंफ्लेमेटरी एजेंट के रूप में कार्य करता है और आपके शरीर को जलन व सूजन से छुटकारा दिलाता है। यह मोच, मांसपेशियों में मामूली खींचाव एवं चोट से जुड़ी सूजन का विरोध करने में मदद करता है। साथ ही यह गाउट (वात रोग) और गठिया से सम्बंधित दर्द व सूजन को शांत करने में भी सहायक है।
अनानस के सेवन के साथ-साथ आप ब्रोमेलैन के सप्लीमेंट्स का भी सेवन डॉक्टर से परामर्श लेने के पश्चात कर सकते हैं।

Tags: , , , , , ,
Avatar

0 Comments

Leave a Comment

FOLLOW US

GOOGLE PLUS

PINTEREST

INSTAGRAM

YOUTUBE

Advertisement

RECENTPOPULARTAG