Thursday, May 28, 2020
Amrud khane ke fayde

अमरूद अनेक पोषक तत्वों का भंडार है जो अनगिनत बीमारियों से मानव के शरीर की रक्षा करता है। अमरूद में विटामिन सी और शर्करा काफी मात्रा में होती है। अमरूद में पेक्टिन की मात्रा भी बहुत अधिक होती है। अमरूद को इसके बीजों के साथ खाना अत्यंत उपयोगी होता है, जिसके कारण पेट साफ रहता है। अमरूद का उपयोग चटनियां, जेली, मुरब्बा और फल से पनीर बनाने में किया जाता है।

सामान्य मिलने वाले फल अमरूद में प्रोटीन, विटामिन और फाइबर भरपूर होता है जबकि कोलेस्ट्रॉल ना के बराबर। यह पेट को जल्दी भर देता हैं, जिससे आपको जल्दी भूख नहीं लगती। शुगर की मात्रा कम होने की वजह से यह डायबिटीज के मरीज के लिए लाभदायक है। इसके अलावा यह हरा और मीठा फल सेहत से जुड़ी कई समस्याओं को दूर रखने में सक्षम है

अमरुद खाने के फायदे

गर्भावस्था में फायदेमंद –

गर्भावस्था में सूप, फलों का रस, फल और कई अन्य खाद्य पदार्थों का सेवन महिला के लिए जरूरी होता है। ऐसे में अगर गर्भवती महिला फलों में अमरूद का सेवन करेगी, तो यह उनके लिए बहुत लाभदायक होगा। अमरूद फोलेट का अच्छा स्रोत है जो गर्भावस्था के दौरान काफी जरूरी है। कई अध्ययनों से पता चलता है कि यह पोषक तत्व बच्चे में जन्म दोष को रोकता है – विशेष रूप से बच्चे के मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी से जुड़ी समस्याओं को। साथ ही यह मां और शिशु दोनों की आंखों की रोशनी बढ़ाने में मदद करता है, रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है, दिल को स्वस्थ रखता है और ऐसी ही कई और चीजों पर ध्यान देता है।

आंखों की रोशनी बढ़ाएं –

विटामिन ए आँखों के स्वास्थ्य के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण होता है और अमरूद विटामिन ए का एक बहुत अच्छा स्रोत है। यह मोतियाबिंद, धब्बेदार अध: पतन एवं अन्य आँखों से सम्बंधित विकारों से भी बचाव करता है। यह दृष्टि में सुधार लाने में इतना सक्षम होता है कि एक बार दृष्टि की गिरावट शुरू होने के बाद भी यह उसमें सुधार ला सकता है। अमरूद में पाए जाने वाले पोषक तत्व मोतियाबंद बनने की संभावना को कम करते है। इसे खाने से कमजोर आंखों की रोशनी बढऩे लगती है।

वजन कम करने में लाभदायक –

अमरूद उन लोगों के लिए बहुत फायदेमंद है जो अपने प्रोटीन, विटामिन और फाइबर के सेवन में समझौता किए बिना वजन को कम करना चाहते हैं। अमरूद स्थूलखाद्य, विटामिन, प्रोटीन एवं विभिन्न प्रकार के खनिज का एक समृद्ध स्रोत है। साथ ही में इसमें कोलेस्ट्रॉल अनुपस्थित होता है और सुपाच्य कार्बोहाइड्रेट बहुत ही कम मात्रा में पाया जाता है। तो इससे भूख जल्दी मिट जाती है और आप ज्यादा खाने से बच जाते हैं, और साथ ही में यह आपके शरीर में पोषक तत्वों की कमी को भी पूरा करता है।
यदि आप लंच में एक अमरूद खायेंगे तो आपको शाम तक भूख नहीं लगेगी। इसमें सेब, संतरे, अंगूर एवं अन्य फलों की तुलना में शुगर भी कम पाया जाता है। अच्छी बात तो यह है कि यदि दुबले-पतले लोग इसका सेवन करें तो इसकी समृद्ध पोषण प्रोफाइल उन्हें वजन बढ़ाने में मदद कर सकती है।

कब्ज से राहत –

अच्छी किस्म के तरोताजा बड़े-बड़े अमरूद लेकर उसके छिलकों को निकालकर टुकड़े कर लें और धीमी आग पर पानी में उबालें। जब अमरूद आधे पककर नरम हो जाएं, तब नीचे उतारकर कपड़े में डालकर पानी निकाल लें। उसके बाद उससे 3 गुना शक्कर लेकर उसकी चासनी बनायें और अमरूद के टुकड़े उसमें डाल दें। फिर उसमें इलायची के दानों का चूर्ण और केसर इच्छानुसार डालकर मुरब्बा बनायें। ठंडा होने पर इस मुरब्बे को चीनी-मिट्टी के बर्तन में भरकर, उसका मुंह बंद करके थोड़े दिन तक रख छोड़े। यह मुरब्बा 20-25 ग्राम की मात्रा में रोजाना खाने से कब्जियत दूर होती है।

सर्दी-जुकाम के लिए फायदेमंद –

अमरूद के फायदे की लिस्ट में सर्दी-जुकाम को ठीक करना भी शामिल है। हालांकि, कई लोगों को यह अटपटा लग सकता है कि सर्दी-जुकाम में अमरूद कैसे खा सकते हैं, क्योंकि अमरूद की तासीर ठंडी होती है। फिर भी अगर आप खुद को सर्दी-जुकाम से बचाना चाहते हैं, तो अमरूद खा सकते हैं। आप कच्चे अमरूद को नमक या काले नमक के साथ खा सकते हैं। अमरूद में प्रचुर मात्रा में विटामिन-सी होता है और विटामिन-सी सर्दी-जुकाम के जोखिम को कम कर सकता है। साथ ही विटामिन-सी रोग-प्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ाता है । इसलिए, अमरूद का सेवन जरूरी है, लेकिन ध्यान रहे कि आप अमरूद खाने के बाद पानी न पिएं।

प्रतिरोधक क्षमता मजबूत –

विटामिन सी शरीर में रोगों से लडऩे की क्षमता को मजबूत बनाता है लेकिन आप शायद यह नहीं जानते कि संतरे के मुकाबले अमरूद में चार गुणा ’यादा विटामिन सी होता है। इससे खांसी,जुकाम जैसे छोटी-मोटी इंफैक्शन से बचाव रहता है।

जल्द घाव भरना –

अमरूद की कोमल पत्तियां उबालकर पीने से पुराने दस्तों का रोग ठीक हो जाता है। दस्तों में आंव आती रहे, आंतों में सूजन आ जाए, घाव हो जाए तो 2-3 महीने लगातार 250 ग्राम अमरूद रोजाना खाते रहने से दस्तों में लाभ होता है। अमरूद में-टैनिक एसिड होता है, जिसका प्रधान काम घाव भरना है। इससे आंतों के घाव भरकर आंते स्वस्थ हो जाती हैं।

स्वस्थ त्वचा के लिए फायदेमंद –

कौन नहीं चाहता कि उसकी त्वचा कोमल, बेदाग और निखरी हुई दिखे, लेकिन आजकल धूल-मिट्टी, प्रदूषण, धूप, तनाव और कई अन्य चीजें त्वचा की प्राकृतिक चमक को छीन लेती हैं। इसी का नतीजा होता है रूखी व बेजान त्वचा। आपकी त्वचा आपके खान-पान का आइना होती है, इसलिए खान-पान में सुधार करें। त्वचा में निखार लाने के लिए अमरूद को अपनी डाइट में शामिल करें। अमरूद में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट गुण आपकी त्वचा को सूरज की हानिकारक किरणों से होने वाले नुकसान और त्वचा पर दिखने वाले बढ़ती उम्र के संकेत जैसे- झुर्रियों व झाइयों को कम कर सकते हैं। अमरूद में प्रचुर मात्रा में विटामिन-ए और सी होता है, जिसका असर आपकी त्वचा पर दिखता है। खासकर, विटामिन-सी आपकी त्वचा को स्वस्थ बनाता है। अमरूद में मौजूद एंटी-माइक्रोबियल गुण कील-मुंहासे पैदा करने वाले बैक्टीरिया को मिटाकर पिंपल को काफी हद तक कम कर सकते हैं।

उच्च रक्तचाप में फायदेमंद –

अमरूद के पोषक तत्व ना केवल हाई बीपी को कम करते हैं परंतु साथ ही में कोलेस्ट्रॉल पर भी नियंत्रण रखते हैं। यह पोटैशियम का एक अच्छा स्रोत है जो ब्लड प्रेशर को स्थिर करने में अत्यंत सहायक है। साथ ही में इसमें फाइबर उच्च मात्रा में पाया जाता है जो रक्तचाप को कम करने में मदद करता है।

थायराइड के लिए फायदेमंद –

थायराइड कोई बीमारी नहीं है, बल्कि सभी के गले में मौजूद ग्रंथि होती है, जो मेटाबॉलिज्म को सही रखती है और हम जो भी खाना खाते हैं, उसे एनर्जी में बदलती है। साथ ही यह ग्रंथि हार्मोन का भी निर्माण करती है। जब ये हॉर्मोन असंतुलित होते हैं, तो उसे थाइराइड कहते हैं । आपको जानकर हैरानी होगी कि भारत में 4.2 करोड़ लोग थायराइड से ग्रस्त हैं । थायराइड से बचने के लिए अपनी डाइट में हरी-सब्जियां, फल, जूस और अन्य सेहतमंद खाद्य पदार्थों का सेवन करें। फल की बात करें, तो अमरूद का सेवन थाइराइड में फायदेमंद है, क्योंकि अमरूद में कॉपर होता है और कॉपर थाइराइड में बहुत महत्वपूर्ण होता है । कॉपर की कमी से थायराइड के साथ-साथ कई अन्य स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं भी हो सकती हैं। एक अध्ययन ने थायराइड रोग में पोषक तत्वों के स्तर का मूल्यांकन किया। परिणामों से पता चला है कि कॉपर, मैंगनीज, जिंक और सेलेनियम की कमी थायराइड में आम है । इसलिए, अगर आप थायराइड से बचना चाहते हैं या आपको थायराइड है और आप उसे संतुलित रखना चाहते हैं, तो अमरूद के मौसम में इसका सेवन जरूर करें।

दिमागी विकास के लिए –

अमरूद के गुण कई हैं। इसमें मौजूद विटामिन-सी मस्तिष्क के लिए बहुत जरूरी है। विटामिन-सी युक्त खाद्य पदार्थ खाने से उम्र के साथ होने वाली मानसिक समस्या और अल्जाइमर की बीमारी से बचा जा सकता है। विटामिन-सी एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट है, जो मस्तिष्क की कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाने वाले मुक्त कणों से लड़ने में मदद करता है। उम्र के साथ-साथ यह आपके मस्तिष्क स्वास्थ्य की रक्षा करता है।

Tags: , , , , ,
Avatar

0 Comments

Leave a Comment

FOLLOW US

GOOGLE PLUS

PINTEREST

INSTAGRAM

YOUTUBE

Advertisement

RECENTPOPULARTAG